इंडियंस को ‘बंधक’ बना ‘मानव ढाल’ के तौर पर इस्तेमाल कर रही यूक्रेनी सेना…पीएम मोदी

पीएम मोदी ने एक बार फिर रूस के राष्‍ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से फोन पर बात की है। पीएम मोदी ने यूक्रेन में फंसे भारतीयों को सुरक्षित निकालने के मुद्दे पर रूसी राष्‍ट्रपति से बात की है। रूसी राष्ट्रपति ने पीएम मोदी से कहा, ‘यूक्रेन की सेना भारतीयों को रूसी क्षेत्र में जाने से रोक रही है।’

 खारकीव समेत यूक्रेन के कई बड़े शहरों में रूस ने हमले तेज कर दिए हैं। यूक्रेन में बिगड़ते हालत के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra) ने बुधवार को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) से फोन पर बात की। पीएम मोदी ने यूक्रेन में फंसे भारतीयों को सुरक्षित निकालने के लिए पुतिन से चर्चा की। उधर, रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने यूक्रेन की सेना पर बड़ा आरोप लगाते हुए पीएम मोदी से कहा कि यूक्रेनी सेना ने वहां मौजूद भारतीय छात्रों को बंधक बना लिया है और उन्हें मानव शील्ड के तौर पर प्रयोग कर रहे हैं। इसके साथ यूक्रेन की सेना भारतीयों को रूसी क्षेत्र में जाने से रोक रही है।

भारतीयों का ह्यूमन शील्ड के तौर पर इस्तेमाल कर रहा यूक्रेन: रूस
रूस के रक्षा मंत्रालय ने बयान जारी कर बताया, ‘हमारी सूचनाओं के मुताबिक, यूक्रेनी अधिकारी खारकिव में भारतीय छात्रों के एक बड़े समूह को जबरन रोक रखे हैं, जो यूक्रेन से बाहर बेलोगोरोड के लिए निकलना चाहते हैं। दरअसल उन्हें बंधक बनाया गया है और उन्हें यूक्रेन-पोलैंड बॉर्डर के रास्ते बाहर निकालने की पेशकश की जा रही है। भारतीय नागरिकों को सुरक्षित निकाले जाने के लिए रूसी सशस्त्र बल हर जरूरी कदम उठाने के लिए तैयार हैं। भारत जैसे चाहेगा, वैसे हम उन्हें (भारतीय नागरिकों) रूसी क्षेत्र से अपने खुद के मिलिट्री ट्रांसपोर्ट प्लेन या भारतीय विमान से उनके घर भेजने को तैयार हैं।’

 

पीएम मोदी ने की हाई लेवल मीटिंग

इससे पहले यूक्रेन संकट पर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने बुधवार को उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। इस दौरान पीएम मोदी ने यूक्रेन में फंसे भारत के लोगों को सुरक्षित निकालने पर चर्चा की। साथ ही ऑपरेशन गंगा के तहत यूक्रेन से निकाले गए भारतीय नागरिकों की जानकारी भी संबंधित अधिकारियों से ली। बैठक के बाद पीएम मोदी ने एक बार फिर रूस के राष्‍ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) से फोन पर बात की। पीएम मोदी की ये बातचीत इसलिए ज्‍यादा अहम है क्‍योंकि रूसी सेना ने यूक्रेन के कई बड़े शहरों पर हमले तेज कर दिए हैं। यूक्रेन के खारकीव को आज हुए हमले में भारी नुकसान हुआ है और काफी लोगों की जान भी चली गई है।

अब तक 6000 भारतीय नागरिक पहुंचे देश

आधिकारिक सूत्रों ने कहा, करीब 20,000 भारतीयों में से अब तक 6,000 को स्वदेश लाया जा चुका है। दरअसल यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद प्रधानमंत्री लगातार विश्व के नेताओं से बात कर रहे हैं। उन्होंने मंगलवार को फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुअल मैक्रों से बात की थी। इस दौरान दोनों नेताओं ने जल्द से जल्द संघर्षविराम के महत्व पर सहमति व्यक्त की।

UN में रूस के खिलाफ प्रस्‍ताव से भारत ने किया किनारा

भारत ने बुधवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के एक प्रस्ताव में हिस्‍सा नहीं लिया। इसमें यूक्रेन के खिलाफ रूस की आक्रामकता की कड़ी निंदा की गई। रूस और यूक्रेन में बढ़ते संकट के बीच एक सप्ताह से भी कम समय में यह तीसरा ऐसा प्रस्‍ताव है। यूक्रेन के खिलाफ रूसी हमले की निंदा करने वाले यूएनजीए के इस प्रस्‍ताव के पक्ष में 141 सदस्‍यों ने वोटिंग की। वहीं, 5 ने इसके विरोध में वोट किया। भारत सहित 35 देशों ने इस प्रस्‍ताव से दूरी बनाई।

Next Post

जनता का जनादेश और कुर्सी पर सीएम फिर बाबा क्यों चला रहे राज्य की सरकार

Thu Mar 3 , 2022
Pandit Pradeep Mishra Tears Controversy : कथा वाचक प्रदीप मिश्रा की आंखों में आंसू के बाद एमपी की राजनीति में भूचाल आ गया है। डैमेज कंट्रोल में जुटी सरकार के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बाबा से कहा कि आपकी कृपा से ही सरकार में है। इसके बाद कई सवाल उठने […]