युद्धग्रस्त यूक्रेन छोड़ रहे भारतीयों की पोलैंड कर रहा है मदद, कभी जामनगर के महाराजा ने अनाथ पोलिश बच्चों को दी थी शरण

Russia Ukraine War News : अभी रूस ने यूक्रेन पर हमला बोला हुआ है, कभी उसने पोलैंड पर हमला बोलकर उसे अपने कब्जे में ले लिया था। द्वितीय विश्वयुद्ध की उस त्रासदी में पोलिश सैनिकों के हजारों बच्चे अनाथ हो गए थे। भारत के एक महाराजा ने दिग्विजय सिंहजी जडेजा ने उनका लालन-पालन किया था।

रूस के सैन्य हमलों के बीच यूक्रेन से निकल रहे भारतीयों को पड़ोसी देश पोलैंड का बड़ा सहारा मिल रहा है। पोलैंड में उनके रहने-खाने और अन्य जरूरी सुविधाएं मुहैया करवाई जा रही हैं। कभी भारत ने पोलैंड के सैकड़ों बच्चों को पनाह दी थी। उस वक्त खुद पोलैंड इसी रूस के हमले का शिकार हुआ था। दरअसल, जगत कल्याण की कल्पना भारतीय जनमानस में परंपरा से रची-बसी हुई है। पश्चिमी देश पोलैंड ने इसका ऐसा अनुभव किया कि भावविभोर होकर चौराहे, पार्क, स्कूल को भारत के एक महाराजा का नाम दे दिया। वो थे- तत्कालीन जामनगर रियासत के महाराजा दिग्विजय सिंहजी जडेजा। उन्होंने पोलैंड की नई पौध को उस वक्त सींचा जब वो जर्मनी और रूस के हमले में बेसहारा हो गई थी। बात हो रही है युद्ध में अनाथ हुए पोलैंड के करीब 1000 बच्चों की जिन्हें महाराजा दिग्विजय सिंह ने न केवल पनाह दी बल्कि पिता जैसा साया दिया। पोलैंड सरकार ने महाराजा दिग्विजय सिंह को मरणोपरांत अपना सर्वोच्च नागरिक सम्मान कमांडर्स क्रॉस ऑफ दि ऑर्डर ऑफ मेरिट से नवाजा।

बात द्वितीय विश्वयुद्ध की है जब…

दरअसल, द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान वर्ष 1939 में जर्मनी ने पोलैंड पर हमला बोल दिया। जर्मन तानाशाह हिटलर और सोवियत रूस के तानाशाह स्टालिन के बीच गठजोड़ हुआ। जर्मन अटैक के 16 दिन बाद सोवियत सेना ने भी पोलैंड पर धावा बोल दिया। दोनों देशों का पोलैंड पर कब्जा होने तक भीषण तबाही मची। हजारों सैनिक मारे गए और भारी संख्या में बच्चे अनाथ हो गए। वो बच्चे कैंपों में बेहद अमानवीय हालात में जीने को मजबूर हो गए। दो साल बाद 1941 में रूस ने इन कैंपों को भी खाली करने का फरमान जारी कर दिया। तब ब्रिटेन की वॉर कैबिनेट की मीटिंग हुई और उन विकल्पों पर विचार किया गया कि कैंपों में रह रहे पोलिश बच्चों के लिए क्या-क्या किया जा सकता है।

दिग्विजय सिंह जडेजा की दरियादिली
ब्रिटिश वॉर कैबिनेट की मीटिंग में नवानगर के राजा दिग्विजिय सिंहजी जडेजा भी शामिल थे। ध्यान रहे आज के गुजरात का जामनगर तब नवानगर के नाम से जाना जाता था। भारत पर तब अंग्रेजों की हुकूमत थी और जामनगर ब्रिटिश रिसायत थी। दिग्विजय सिंह ने कैबिनेट के सामने प्रस्ताव रखा कि वो अनाथ पोलिश बच्चों की देखरेख को उत्सुक हैं और उन्हें नवानगर लाना चाहते हैं। उनका प्रस्ताव को कैबिनेट की मंजूरी भी मिल गई और ब्रिटिश सरकार ने महाराजा को इंतजाम करने को कह दिया।

ब्रिटिश सरकार, बॉम्बे पोलिश कॉन्स्युलेट, रेड क्रॉस और रूस के अधीन पोलिश फौज के संयुक्त प्रयास से बच्चों को भारत भेजा गया। 1942 में 170 अनाथ बच्चों का पहला बच्चा जामनगर पहुंचा। इस तरह अलग-अलग जत्थों में करीब 1000 असहाय पोलिश बच्चे भारत आए। महाराजा दिग्विजिय सिंहजी ने जामनगर से 25 किलोमीटर दूर बालाचाड़ी गांव में शरण दिया। महाराजा ने बच्चों का ढाढस यह कहकर बंधाया कि अब वो ही उन बच्चों के पिता हैं।

बालाचाड़ी में हर बच्चे को कमरों में अलग-अलग बिस्तर दिया। वहां खाने-पीने, कपड़े और स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ-साथ उनके खेलने तक की सुविधा सुनिश्चित की। पोलैंड ने बच्चों के लिए एक फुटबॉल कोच भेजा। वो बच्चे अपनी जड़ों से कटा महसूस नहीं करें, इसलिए एक लाइब्रेरी बनवाई और उनमें पोलिश भाषा की किताबें रखवा दीं। पोलिश त्याहोर भी धूमधाम से मनाए जाते। ये सभी खर्च महाराजा ने खुद उठाया, उन्होंने कभी कोई रकम पोलैंड सरकार से नहीं ली।

महाराजा की महानता नहीं भूला पोलैंड
वर्ष में 1945 में विश्वयुद्ध खत्म होने पर पोलैंड को सोवियत यूनियन में मिला लिया गया। अगले वर्ष पोलैंड की सरकार ने भारत में रह रहे बच्चों की वापसी की सोची। उसने महाराजा दिग्विजिय सिंह से बात की। महाराजा ने पोलिश सरकार से कहा कि आपके बच्चे हमारे पास अमानत हैं, आप जब चाहें ले जाएं। महाराजा ने हामी भरी तो बच्चों की वापसी हो गई।

43 वर्ष बाद सन 1989 में पोलैंड सोवियत संघ से अलग हो गया। स्वतंत्र पोलैंड की सरकार ने राजधानी वॉरसॉ के एक चौक का नाम दिग्विजय सिंह के नाम पर रख दिया। हालांकि, महाराजा का निधन 20 वर्ष पहले 1966 में हो चुका था। फिर 2012 में वॉरसॉ के एक पार्क का नाम दिया गया। अगले वर्ष 2013 में वॉरसॉ में फिर एक चौराहे का नाम ‘गुड महाराजा स्क्वॉयर’ दिया गया। इतना ही नहीं, महाराजा दिग्विजय सिंहजी जडेजा को राजधानी के लोकप्रिय बेडनारस्का हाई स्कूल के मानद संरक्षक का दर्जा दिया गया। पोलैंड ने महाराजा को अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान कमांडर्स क्रॉस ऑफ दि ऑर्डर ऑफ मेरिट भी दिया।

Next Post

LPG Price: सिलेंडर आज से 105 रुपये महंगा, 1 मार्च से अब आपके शहर में बदल गया गैस का दाम

Tue Mar 1 , 2022
रूस-यूक्रेन की जंग के बीच  1 मार्च को एलपीजी सिलेंडर के नए रेट जारी हो गए। सिलेंडर के रेट में 105 रुपये का इजाफा हुआ है। यह इजाफा कमर्शियल सिलेंडर में किया गया है और बहुत हद तक संभव है कि 7 मार्च के बाद घरेलू एलपीजी सिलेंडर भी महंगा […]