सिर्फ 4 रुपये में पाकिस्तान से भारत का सफर! सोशल मीडिया पर वायरल हुआ 1947 का टिकट

Social Media Takeover of a 1947 Train Ticket: टिकट पर 17 सितंबर 1947 की तारीख पड़ी है. जिस पर पेन से सारी डीटेल्स लिखी गई हैं. बता दें उस समय तक छपाई वाले या फिर कंप्यूटराइज्ड टिकट नहीं हुआ करते थे ऐसे में इसी तरह के पेन से लिखे हुए टिकट चलते थे. बंटवारे से पहले उत्तर पश्चिमी रेलवे जोन पाकिस्तान में आता था.

Rawalpindi to amritsar ticket 1947

देश की आजादी के समय का एक ट्रेन का टिकट इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. (Rawalpindi to Amritsar Train Ticket): $9. सोशल मीडिया पर लोग इतना पुराना नोट और उसके किराये के बाद देखने कर हैरान हैं. उस समय 9 लोगों के लिए सिर्फ 36 रुपये और 9 आना किराया था. लोग इस टिकट के कीमत की तुलना कर रहे हैं और सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर कर रहे हैं.

फेसबुक पर इतना पुराना ये टिकट लोग खूब शेयर कर रहे हैं. इस टिकट को फेसबुक पेज पाकिस्तान रेल लवर्स शेयर किया है. पाकिस्तान रेल लवर्स ने टिकट की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, “17-09-1947 को आजादी के बाद 9 लोगों के लिए जारी किए गए ट्रेन टिकट की एक तस्वीर, रावलपिंडी से अमृतसर के लिए, जिसकी कीमत 36 रुपये और 9 आना है. शायद ये एक परिवार का है जो भारत आ गया.” ये टिकट थर्ड एसी की एकतरफा यात्रा का है

उस समय तक छपाई वाले या फिर कंप्यूटराइज्ड टिकट नहीं

टिकट पर 17 सितंबर 1947 की तारीख पड़ी है. जिस पर पेन से सारी डीटेल्स लिखी गई हैं. बता दें उस समय तक छपाई वाले या फिर कंप्यूटराइज्ड टिकट नहीं हुआ करते थे ऐसे में इसी तरह के पेन से लिखे हुए टिकट चलते थे. बंटवारे से पहले उत्तर पश्चिमी रेलवे जोन पाकिस्तान में आता था.

इस टिकट के दाम पर सोशल मीडिया पर तमाम यूजर्स हैरानी जता रहे हैं. कुछ का कहना है कि ये टिकट किसी विदेशी का भी हो सकता है. वहीं कुछ लोगों का कहना है कि उस समय तक पाकिस्तान से टिकट लेकर आना कितना आसान था लेकिन अब पहले जैसी परिस्थिति नहीं रह गई है.

15 अगस्त सन 1947 को भारत आजाद हुआ और पाकिस्तान अस्तित्व में आया. इस दौरान बहुत बड़ी संख्या में लोग पाकिस्तान से भारत आए और भारत से पाकिस्तान गए. ये टिकट ऐसे ही किसी परिवार का प्रतीत होता है.

Share This:

Next Post

शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद ने बागेश्वर धाम के SHASTRI के चमत्कार पर उठाए सवाल

Mon Jan 23 , 2023
Dheerendra Shastri’s , इस बोर्ड के मुखिया ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने शनिवार को छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में पत्रकारों से यह जानकारी साझा की. उन्होंने कहा कि भारत में सेंसर बोर्ड अपना काम कर रहा है. सेंसर बोर्ड अगर ना होता तो जाने कितनी […]

Read This More

error: Content is protected !!