भूकंप का डरावना मंजर देख कांप रहे 22 साल की लड़की के हाथ-पैर, इंडोनेशिया की सड़कों पर शवों के लिए बिछे तिरपाल

इंडोनेशिया में सोमवार को भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.6 मापी गई। भूकंप का केंद्र जावा द्वीप के सियांजुर में था। भूकंप के झटके लगते ही लोग डर के मारे घरों से बाहर निकल आए। 27 करोड़ की आबादी वाले इंडोनेशिया में भूकंप से अब तक 162 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 700 से ज्यादा घायल हैं।

इंडोनेशिया में सोमवार को भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.6 मापी गई। भूकंप का केंद्र जावा द्वीप के सियांजुर में था। भूकंप के झटके लगते ही लोग डर के मारे अपने घरों से बाहर निकल आए। बता दें कि करीब 27 करोड़ की आबादी वाले इंडोनेशिया में भूकंप से अब तक 162 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 700 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। मरने वालों का आंकड़ा अभी और बढ़ सकता है।

शवों को रखने सड़कों पर बिछे तिरपाल : 

आशंका है कि अभी ऑफ्टरशॉक आ सकते हैं, इसके चलते कई इमारतों को खाली करवा लिया गया है। भूकंप के बाद घायलों को पिकअप ट्रकों और मोटरसाइकिल से अस्पताल ले जाया गया। इसके साथ ही लोगों ने शवों को रखने के लिए सड़कों पर तिरपाल बिछाया। भूकंप के चलते शहरों की बिजली बंद कर दी गई है। भूकंप के चलते हजारों मकान तबाह हो गए हैं, जिससे चारों तरफ मलबा ही मलबा दिखाई दे रहा है। इसके साथ ही कई दुकानें, अस्पताल और स्कूल भी भूकंप की चपेट में आए हैं।

14वीं मंजिल से नीचे उतरने का सोचकर ही आए चक्कर : 

22 साल की वकील मायादिता वालुयो भूकंप का खतरनाक मंजर देखकर बेहद डर गईं। वालुयो के मुताबिक, भूकंप आने पर जकार्ता में लोग घबराकर अपने-अपने घरों से बाहर निकलने के लिए दौड़े। मैं उस वक्त कुछ काम कर रही थी। मैंने देखा कि अचानक मेरे नीचे का फर्श हिलने लगा। मैंने भूकंप के शॉक को बेहद करीब से महसूस किया। ये सब देखकर मैं इतना डर गई, क्योंकि मुझे 14वीं मंजिल से नीचे उतरना था। डर के मारे मेरे हाथ-पैर अब तक कांप रहे हैं।

सिर पर सख्त टोपी लगाए दिखे लोग : 

भूकंप के चलते गिरने वाले मलबे से खुद को बचाने के लिए लोगों ने सिर पर एक सख्त टोपी पहन रखी थी। राजधानी जकार्ता में एम्बुलेंस के सायरन लगातार सुनाई दे रहे हैं। बता दें कि इंडोनेशिया प्रशांत महासागर में रिंग ऑफ फायर पर स्थित है। यहां अक्सर टेक्टोनिक प्लेट्स टकराने की वजह से भूकंप और ज्वालामुखी आते रहते हैं। बता दें कि इससे पहले जनवरी, 2021 में यहां के सुलावेसी द्वीप में 6.2 तीव्रता का भूकंप आया था। इसमें 100 से ज्यादा लोग मारे गए थे, जबकि 6200 लोग घायल हुए थे।

Share This:

Next Post

दुल्हन बनने से किया इंकार, तो पागल आशिक ने खुद को और लड़की को कर दिया आग के हवाले

Tue Nov 22 , 2022
प्यार समर्पण सिखाता है। लेकिन आज के दौर का प्यार विकृत रूप ले चुका है। समर्पण की जगह पाने की चाहत ने ले ली है। तभी तो एक तरफा प्यार में पागल सिरफिरे ने ना सिर्फ खुद को आग के हवाले कर दिया बल्कि लड़की को भी […]
error: Content is protected !!