खुशखबर, अब कनाडा की सेना में शामिल हो सकते हैं स्थायी भारतीय

कनाडा सरकार ने अपने स्थायी भारतीय नागरिकों को एक बड़ा तोहफा दिया। अब कनाडा के स्थायी भारतीय नागरिक कनाडा की सेना ज्वाइन कर सकते हैं। कनाडाई सशस्त्र बल ने इसकी अनुमति प्रदान कर दी है।

खुशखबर। कनाडा में रह रहे स्थायी भारतीय निवासी अब कनाडा आर्मी का हिस्सा बन सकेंगे। कनाडा की सरकार ने इसके लिए अनुमति प्रदान की है। कनाडा में रह रहे स्थायी भारतीय निवासी अब कनाडा की सेना में शामिल हो सकते हैं। कनाडाई सशस्त्र बल (सीएएफ) ने इस नई योजना की जानकारी दी है। सीएएफ की इस घोषणा के बाद कनाडा के स्थायी भारतीय नागरिकों में खुशी की लहर फैला गई। कनाडा में इ वक्त लगभग 12,000 स्थाई सैनिक हैं। और बताया जा रहा है कि, कनाडाई सेना में हजारों पद रिक्त हैं। यह उन पदों को भरने की कवायद है। अभी कुछ वक्त पूर्व ही रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस ने भी 10 वर्षों से कनाडा में रह रहे विदेशियों का पुलिस सर्विस में आवेदन करने की अनुमति प्रदान की है।

2024 तक एक लाख नए आप्रवासी बन सकते हैं स्थायी निवासीगौरतलब है कि 2021 तक कनाडा में आठ मिलियन से अधिक अप्रवासी थे यानी कुल कनाडाई आबादी का लगभग 21.5 प्रतिशत। पिछले साल लगभग 1 लाख भारतीय कनाडा के स्थायी निवासी बन गए। देश ने रिकॉर्ड 405,000 नए अप्रवासियों को शरण दिया। कनाडा में 2022 और 2024 के बीच एक लाख से अधिक नए आप्रवासियों के स्थायी निवासी बनने की संभावना है।

डीएनडी कर सकता है नीति में बदलाव की घोषणा

एक गैर-लाभकारी संस्था रॉयल यूनाइटेड सर्विसेज इंस्टीट्यूट ऑफ नोवा स्कोटिया के अनुसार, स्थायी निवासी पहले केवल कुशल सैन्य विदेशी आवेदक (एसएमएफए) प्रवेश कार्यक्रम के तहत पात्र थे। सीआईसी न्यूज ने बताया कि, राष्ट्रीय रक्षा विभाग (डीएनडी) नीति में बदलाव के संबंध में आने वाले दिनों में एक औपचारिक घोषणा कर सकता है।

कनाडा आर्मी में सिर्फ 12,000 स्थाई सैनिक

मार्च में कनाडा की रक्षा मंत्री अनीता आनंद ने कहा था कि, रूस के यूक्रेन पर आक्रमण के कारण बदलते वैश्विक भू-राजनीतिक परिदृश्य के बीच सीएएफ को बढ़ने की जरूरत है। सितंबर में सीएएफ ने सेना में हजारों खाली पदों को भरने के लिए की बात कही। टोरंटो स्टार ने बताया कि कनाडा में लगभग 12,000 स्थाई सैनिक हैं।

रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस ने भी बदली अपनी भर्ती प्रक्रिया

हाल ही में रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस (आरसीएमपी) ने घोषणा की थी कि वे अपनी ‘पुरानी भर्ती प्रक्रिया’ को बदल रहे हैं ताकि 10 वर्षों से कनाडा में रह रहे विदेशी भी आवेदन कर सकें।

Share This:

Next Post

जेल से छूटते ही कैसे राजीव के हत्यारे नलिनी और रविचंद्रन ने रंग बदल दिया

Mon Nov 14 , 2022
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी हत्याकांड के छह दोषियों को समय-पूर्व रिहा किये जाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले से नलिनी श्रीहरन का परिवार काफी खुश है। नलिनी की मां एस. पद्मा ने कहा खुशी के भाव शब्दों में बयां नहीं किये जा सकते। इस खुशी का कोई […]
error: Content is protected !!