अनियमित पीरियड्स से परेशान है तो अपनाएं घरेलू उपाय

अकसर कहा जाता है कि टेंशन और स्ट्रेस एक ऐसा दीमक है, जो शरीर को धीरे-धीरे खोखला करता जाता है। ऐसे में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को ज्यादा स्ट्रेस और टेंशन में देखा जाता है।

महिलाएं चाहकर भी खुद को इससे दूर नहीं कर पाती हैं, जिसके कारण उन्हें कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। स्ट्रेस का सबसे ज्यादा असर महिलाओं के पीरियड्स पर पड़ता है।अनियमित पीरियड्स लगभग हर महिला की परेशानी है। लेकिन इनसे निपटने के लिए आपको डॉक्टर के पास जाने की जरूरत नहीं, बल्कि कुछ घरेलू उपायों से भी इन्हें दूर किया जा सकता है। आइए जानें कैसे-

दूध में मिलाकर कर पीएं

1. दालचीनी- अनियमित पीरियड्स को नियमित करने के लिए एलोपैथिक दवाओं की ओर रुख करने से अच्छा है अपनी किचन में ही इसका इलाज ढूंढा जाए। डायटिशियन अनिता लांबा बताती हैं कि रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाली सामग्री से ही पीरियड्स को नियमित किया जा सकता है। किचन में रखी दालचीनी इसमें रामबाण साबित हो सकती है। पीरियड्स को रेगुलर करने के साथ-साथ इस दौरान होने वाले दर्द से भी बचाने में लाभदायक है। इतना ही नहीं, इसमें मौजूद हाइड्रोऑक्सिचलकोन पीरियड्स के दौरान इन्सुलिन के स्तर को बनाए रखता है।

आधा चम्मच ताजा पीसी दालचीनी एक गिलास दूध में मिलाएं और इसे नियमित रूप से अपने रूटीन में शामिल करें। अगर आप दूध में डालकर नहीं पी सकते, तो इसे कई दूसरे तरीकों से भी शामिल किया जा सकता है। जैसे- चाय, खाने में ऊपर से डालकर या इसकी लकड़ी को चबा कर अपना रूटीन बना सकते हैं।

पीरियड्स के फ्लो को सही करने करता है मदद

2. अदरक या सूखा अदरक (सौंठ)- सौंठ या सूखा अदरक भी पीरियड्स को नियमित करने में सहायक माना जाता है। यह पीरियड्स के फ्लो को सही करने और दर्द को कम करने में लाभदायक होती है। आप इसे कच्चा भी खा सकते हैं या फिर इसका जूस पी सकते हैं। दोनों ही उपाय आपके पीरियड्स समय पर लाने में मदद करेंगे। आप अदरक चाय में डालकर भी अपने रूटीन में शामिल कर सकते हैं।

अदरक को कद्दूकस करके उसे स्टील के बाउल में रखें। उसमें थोड़ा-सा पानी डालकर गैस पर रखें। इसमें थोड़ी चीनी डालकर पांच मिनट बाद गैस बंद कर दें। गर्मा-गर्म पीएं और ऐसा नियमित रूप से करें।

3. कच्चा पपीता- स्ट्रेस और मोनोपोस के कारण पीरियड्स में होने वाली अनियमितता को दूर करने का रामबाण इलाज कच्चा पपीता है। इसमें मौजूद पौष्टिक तत्व जैसे आयरन, कौरोटीन, कौल्शियम, विटामिन ए और सी गर्भाश्य की सिकुड़ी हुई मांसपेशियों को फाइबर पहुंचाने का काम करते हैं। कुछ महीने तक कच्चा पपीता खाएं या उसका जूस पीएं और खुद देखें कच्चे पपीते का जादू।

यूं करें शामिल– पीरियड्स आने से कुछ दिन पहले, कच्चा पपीता खाना शुरू कर दे्ं। एक बाउल में पपीते के छोटे टुकड़े काट लें। इसके ऊपर एक चम्मच दही डालें और ब्रेकफास्ट में शामिल करें। कोशिश करें कि इसे नियमित तौर पर ब्रेकफास्ट स्नैक की तरह लें।

इमली का गुद्दा है कारगार

4. इमली या खट्टे खाद्य पदार्थ- अपने मासिक धर्म को नियमित रखने के लिए इमली जैसे खट्टे खाद्य पदार्थ अपनी लाइफ में शामिल किए जा सकते हैं। इमली का गुद्दा ऐसे में बहुत ही सही साबित हुआ है। इमली को चीनी के साथ पानी में एक घंटे के लिए भिगो ककर रख दें। अब इसमें नमक, चीनी और पीसा हुआ जीरा पाउडर मिलाएं। इसे टेस्टी और कारगार ड्रिंक को दो दिन में एक बार लें।

चंकूदर

5. चकूंदर- डायटिशियन अनिता लांबा का कहना है कि चकूंदर में कई जरूरी पोषक तत्व और आयरन, फॉलिक एसिड आदि पाए जाते हैं, जो अनियमित मासिक धर्म को नियमित करने में कारगर साबित होते हैं। यह हार्मोन्स के संतुलन को सही करने में मदद करते हैं, इसलिए कोशिश करें की नियमित रूप से चंकूदर आपकी डाइट में शामिल हो सके।

Share This:

Next Post

1 महीने में 5 किलो तक वजन कम करने के लिए Aloe Vera

Wed Nov 16 , 2022
यह डेंटल प्लाक को कम करने और कब्ज़ आदि जैसे गैस्ट्रिक विकारों में मदद करने में भी मददगार पाया गया है। इसके अलावा एलोवेरा कटने, घाव, जलने और मसूड़ों व आंखों में संक्रमण में भी आराम देने के लिए जाना जाात है। साथ ही एलोवेरा के सेवन […]
error: Content is protected !!