छात्र के जज्बे को सलाम,दोनों हाथों से लाचार आलोक पैरों से लिख रहा है पेपर…

राजकीय पॉलिटेक्निक टेकारी, गया में अलग-अलग सेमेस्टर की परीक्षाएं चल रही है। यहां राजकीय पॉलिटेक्निक गया और आर्यभट्ट पॉलिटेक्निक के छात्रों के लिए सेंटर बनाया गया है। दो पालियों में परीक्षा ली जा रही है।

टेकारी सेंटर पर राजकीय पॉलिटेक्निक गया का छात्र आलोक कुमार परीक्षा दे रहा है। दोनों हाथों से लाचार आलोक अपने पैरों से पेपर लिख रहा है। सिविल इंजीनियरिंग के चौथे सेमेस्टर के छात्र आलोक के जज्बे को लोग सलाम कर रहे हैं।

सामान्य बच्चों के साथ एक ही कमरा में बैठकर आलोक भी परीक्षा दे रहा है। हालांकि वह बाकी विद्यार्थी की तरह से हाथ से नहीं बल्कि अपने पैरों से लिख रहा है। पैरों की मदद से ही वह पेपर भी पलट रहा है। आलोक का हौसला काफी बुलंद है। आलोक इंजीनियर बनना चाहता है।

केंद्राधीक्षक डॉ. विधिलाल प्रभाकर और परीक्षा नियंत्रक-धर्मेन्द्र कुमार की देखरेख में परीक्षा चल रही है। बुधवार को पहली पाली में चौथे समेस्टर और दूसरी पाली में दूसरे सेमेस्टर की परीक्षा ली गई।

पहली पाली में 273 परीक्षार्थी और दूसरी पाली में 180 परीक्षार्थी शामिल हुए। परीक्षा केंद्र में जांच के बाद परीक्षार्थियों को इंट्री दी जा रही है। नयी व्यवस्था के तहत परीक्षा केंद्र पर ही प्रश्न पत्रों की छपाई की जा रही है।

देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें Social Awaj News ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए Social Awaj फेसबुकपेज लाइक करें

Share This:

Next Post

जानिए खड़ाऊ के पीछे का विज्ञान, आखिर वैज्ञानिकों ने क्यों किया इसका आविष्कार ?

Fri Nov 18 , 2022
हमारे वैज्ञानिक ऋषि मुनि धरती की गूढ़ रासायनिक संक्रियाओं को समझते थे, इसलिए उन्होंने खड़ाऊ का आविष्कार किया| आपको गर्व होगा खड़ाऊ(Why did scientists invent Khadau)के पीछे का विज्ञान जानकर गुरुत्वाकर्षण का जो सिद्धांत वैज्ञानिकों ने बाद मे प्रतिपादित किया उसे हमारे ऋषि मुनियों ने काफी पहले […]
error: Content is protected !!