अहीरवाल के वीरों की शहादत की गाथा आज भी युवाओं के जहन में…

लद्दाख की दुर्गम बर्फीली चोटी पर लिखी गई अहीरवाल के वीरों की शहादत की गाथा आज भी युवाओं के जहन में देशभक्ति की भावना जागृत कर रही है।

चीनी आक्रमण के समय आज ही के दिन 18 नवंबर 1962 को लद्दाख की बर्फीली चोटी पर स्थित रेजांगला पोस्ट पर हुए युद्ध की गौरवगाथा विश्व के युद्ध इतिहास में अद्वितीय है।

वर्ष 1962 में रेजांगला पोस्ट पर हुए इस युद्ध में तत्कालीन 13 कुमाऊं बटालियन के 124 जवानों में से 114 जवान कुर्बान हो गये थे। इन जवानों ने 1300 चीनी सैनिकों को मार गिराया था।मेरी ओर से आज सभी वीर सैनिकों को नमन।

देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें Social Awaj News ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए Social Awaj फेसबुकपेज लाइक करें

Share This:

Next Post

30 वर्षीय सरिता है दिल्ली DTC बस की प्रथम महिला ड्राइवर...

Fri Nov 18 , 2022
आंध्रप्रदेश के नालकुंडा की 30 वर्षीय सरिता ने 15 साल की उम्र में स्कूटर चलाना सीख लिया था। तब कहां सोचा था कि वह दिल्ली में बस चलाने वाली पहली महिला होंगी। आर्थिक तंगी के चलते पहले उन्होंने ऑटो चलाना शुरू किया, तब काफी मुश्किलें आईं। बाद […]
error: Content is protected !!