बिहार के इस गांव ने आजादी के बाद न थाने देखे, न अदालत..

बिहार में जहानाबाद जिले में एक गांव ऐसा है, जहां आजादी के बाद कोई मामला थाने तक नहीं पहुंचा। घोसी प्रखंड के धौताल बिगहा गांव के लोग आपसी विवाद को लेकर कभी थाने नहीं गए। गांव के शांतिप्रिय लोग विवाद होने पर बिना कोर्ट पहुंचे मामले का निपटारा कर लेते हैं।

करीब 120 घरों और 800 की आबादी वाले इस गांव के लोगों ने कई और मिसाल कायम की हैं। गांव के सबसे बुजुर्ग जगदीश यादव, नंदकिशोर प्रसाद और संजय कुमार का कहना है कि यहां लोग एकता के सूत्र में इस तरह बंधे हैं कि पंचायत चुनाव में वार्ड और पंच का निर्विरोध निर्वाचन होता है। अगर गांव में किसी बात को लेकर विवाद होता है तो उसे आपस में ही निपटा लिया जाता है। ग्रामीणों के मुताबिक गांव में आज तक कोई ऐसा गंभीर विवाद नहीं हुआ, जिसे सुलझाने के लिए थाने या कोर्ट कचहरी जाने की नौबत आए। गांव के कुछ बुजुर्ग लोग विवाद होने पर हस्तक्षेप करते हैं। दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर सुलह करा दी जाती है।

बकरी पालन को लेकर हुआ था बड़ा विवाद

गांव के बुजुर्ग जगदीश यादव ने बताया कि करीब 50 साल पहले बड़ा विवाद हुआ था। इसकी वजह बकरी पालन था। ग्रामीण सैकड़ों की संख्या में बकरी पालन करते थे। बकरियों को चराने को लेकर कुछ लोगों में झगड़ा हुआ। इस पर कई दिन तक तनातनी का माहौल रहा। बकरी पालन को लेकर विवाद हुआ तो ग्रामीणों ने एकमत होकर बकरी पालना ही कर दिया था।

परंपरा को दूसरे गांव भी अपनाएं

पंचायत के मुखिया विजय साव ने बताया कि यह किसी भी गांव के लिए अच्छी परंपरा है। दूसरे गांवों के लोगों को भी इसी तरह विवाद को आपस में सुलझाने की कोशिश करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मिसाल कायम करने वाले इस गांव के जिम्मेदार बुजुर्गों और सामाजिक कार्यकर्ताओं को हम अपने स्तर पर सम्मानित करने का प्रयास करेंगे।

Share This:

Next Post

दिल्‍ली-NCR में तेजी से गिरेगा तापमान, चार राज्‍यों में शीत लहर की चेतावनी.

Mon Nov 21 , 2022
स्‍टर्न डिस्‍टरबेंस के सक्रिय होने और हवाओं की दिशा के चलते दिल्‍ली समेत उत्‍तर भारत में ठंड बढ़ने वाली है। मौसम विभाग ने चार राज्‍यों में शीत लहर का अलर्ट जारी किया है।. बढ़ती ठंड से राजधानी को दिन के समय थोड़ी राहत मिली है। वहीं, दो […]
error: Content is protected !!