Fruit Market Rates Down: नवरात्रि व रमजान में फल मंडी में करोड़ों डूबे! जाने अंगूर और सेब के दाम

Estimated read time 1 min read

Fruit Market Rates Down: नवरात्र और रमजान दोनों एक साथ आने से अक्सर ऐसा होता है कि फलों के दाम बढ़ जाते हैं लेकिन इस बार अलग ही ट्रेंड दिख रहा है. उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से खबर है कि फलों के दाम बढ़ रहे हैं

फल कारोबारियों को इस बार मंदी का सामना करना पड़ रहा है. यूपी के किसी हिस्से में फलों के दाम दोगुने हो गए हैं तो कहीं आधे रह गए हैं. मुरादाबाद में नवरात्रि और रमजान के बीच मंडी के व्यवसायी परेशान हैं. जानिए यहां फलों के दाम किस कदर गिरे हैं.

Fruit Market Rates Down
Fruit Market Rates Down

मुरादाबाद. नवरात्र और रमजान दोनों एक साथ आने से अक्सर ऐसा होता है कि फलों के दाम बढ़ जाते हैं लेकिन इस बार अलग ही ट्रेंड दिख रहा है. उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से खबर है कि फलों के दाम बढ़ रहे हैं, लेकिन मुरादाबाद में अंगूर और सेब बेहद सस्ता हो रहा है.

Fruit Market Rates Down: ग्राहकों के लिए यह राहत की खबर है लेकिन आढ़तियों का जीना मुहाल हो गया है. आढ़तियों का कहना है कि अंगूर और सेबों के दाम इस कदर सस्ते हो गए हैं कि फल कारोबारियों को करोड़ों का घाटा हो गया है.

सेब और अंगूर के दामों ने बहुत घाटा पहुंचाया

Fruit Market Rates Down: मुरादाबाद की फल मंडी में सभी तरह के फल मिलते हैं. फल कारोबारियों का कहना है कि इस बार सेब और अंगूर के दामों ने बहुत घाटा पहुंचाया है. एक अनुमान के मुताबिक सभी फल कारोबारियों को कई करोड़ का घाटा हुआ है. फल कारोबारियों का कहना है कि जो अंगूर की क्रेट इन दिनों 800 से 900 रुपए की जाती थी. वही क्रेट अब 300 से 400 रुपए या 500 रुपए तक में बेचनी पड़ रही है.

बिना टिकट वाले बच कर रहे, इस महिला रेलकर्मी से वसूला 1 करोड़ रुपये जुर्माना!

कुछ ऐसा ही हाल सेब का है. सेब की क्रेट के भी रेट यही थे और अब बहुत सस्ता बेचना पड़ रहा है. कारोबारियों का कहना है कि फल को मंगाने में जो किराया खर्च होता है, वह भी नहीं निकल पा रहा है.
माल ज्यादा आने से हो रहा घाटा!

माल नहीं बिक रहा. बिक भी रहा है तो बहुत डाउन

Fruit Market Rates Down: फल मंडी के अध्यक्ष मोहम्मद जिकरान ने बताया कि होली से पहले तक तो कुछ बेहतर था लेकिन होली के बाद कंडीशन यह बनी है कि जो अंगूर मंडी में 800 रुपए का आकर पड़ रहा है. वह हमें ग्राहकों को 400 से 500 रुपए में देना पड़ रहा है.

उनका कहना है कि इस बार अंगूर की फसल ठीक- ठाक है. माल ज्यादा आ रहा है जिसकी वजह से कारोबारियों को घाटा हो रहा है. फल विक्रेता निजामुद्दीन ने बताया कि पूरी फल मंडी में सभी दुकानें फलों से भरी हुई है लेकिन माल नहीं बिक रहा. बिक भी रहा है तो बहुत डाउन.

देशदुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्मकर्मपाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें Social Awaj News ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए Social Awaj फेसबुकपेज लाइक करें

follow us on google news banner black 1

You May Also Like

More From Author